Inspirational short stories,MOTIVATIONAL Hindi Stories

Hindi stories,inspirational short stories,motivational speeches,motivational Hindi stories,how to become successful,poem,English stories,motivational quotes,moral stories,motivational short story in hindi,

Thursday, January 10, 2019

HINDI MOTIVATIONAL STORY "संघर्ष – प्रेरक लघु कहानी"

संघर्ष – प्रेरक लघु कहानी 


एक समय की बात है बारिश का मौसम था सब बच्चे खेल रहे थे और जेबी दादा अपने आश्रम मे एक पेड़ के नीचे बैठे थे , अचानक जेबी दादा ने सभी बच्चो को बुलाया और कहा बच्चो आज मे तुम्हे एक कहानी सुनता हू , सभी बच्चे बहोत उत्साहित हो गये और जेबी दादा के पास आकर बैठ गये,
HINDI MOTIVATIONAL STORY "संघर्ष – प्रेरक लघु कहानी"

फिर जेबी दादा ने कहा बहोत वक़्त पहेले की बात है एक गाँव मे एक किसान रहता था वो अपने खेत मे बहुत मेहनत करता था पर इतनी फसल नही होती थी क्योंकि कभी बारिश बढ़ जाती थी तो कभी ओले पड़ते थे तो कभी सूखा पड़ जाता था इसीलिए जितनी वो चाहता उतनी फसल नही हो पाती थी,
एक दिन जब वो अपने खेत मे जा रहा था तो ये सारी बाते सोचकर उसे अपने आप पर और भगवान पर गुस्सा आने लगा की मे इतनी मेहनत करता हू अगर भगवान तो खेती बाड़ी आती तो ये सब नही होता ,
फिर उसने उपर आसमान मे भगवान की और देखा और ज़ोर से चिल्लाया की भगवान तुझे खेती बाड़ी आती हैं की नही, कही बारिश का कुछ ठिकाना नही , ओले गिरते है , बाढ़ आती है तो कभी सूखा हो जाता है
एक साल जैसा मे काहु वैसा कर फिर देख मे फसल का ढेर लगा दूँगा , फिर भगवान ने जवाब दिया ठीक है इस साल जैसा तू बोलेगा उतनी ही बारिश और धूप गिरेगी,


फिर उस किसान ने गेहू की फसल बॉई जितनी ज़रूरत थी उतना पानी बरसा , फिर जब जितनी धूप की ज़रूरत थी उतनी धूप , इस साल ना तेज़ धूप गिरी ना ज़्यादा बारिश हुई,किसान के खेत मे एसी गेंहू की फसल लगी जैसी आज तक कभी नही हुई थी, फिर आख़िर वो दिन आ ही गया जब फसल को काटनी थी
जैसे फसल काटने के लिए किसान खेत मे गया तो फसल को देखकर वो अपने सर पर हाथ रखकर बैठ गया , क्योंकि एक भी बलि मे गेहू नही लगा था,
फिर उसने भगवान की और देखा और बोला ये क्या मज़ाक है..? 
फिर भगवान ने कहा उसमे तेरी ही तो ग़लती है क्यूंकी इस साल तेरी फसल ने मौसम के साथ कोई संघर्ष ही नही किया किया है , ना तेज़ धूप गिरी और ना तेज़ बारिश हुई , इसीलिए तेरी फसल की बालीया नाज़ुक रह गयी और उसमे कोई गेहू का दाना नही लगा ,
जब कोई पौधा मौसम या परिस्थिति के सामने ज़िंदा रहने के लिए संघर्ष करता है तभी उसमे बीज पनपता है,
फिर सारी बात किसान को समाज मे आ गयी, और अगले साल से मौसम के हिसाब से फसल करने लगा और उसकी फसल बढ़ने लगी और सुख से जीने लगा,
फिर जेबी दादा ने बच्चो से कहा ये कहानी सिर्फ़ उस इंसान की नही है हमारे जीवन मे भी ठीक यही नियम काम करता है, क्यूकी जब भी हमारे जीवन मे कोई समस्या आती है तो हमे लगता है की काश मेरे जीवन मे कोई समस्या ना होती तो मे ना जाने कहा पर पह्ोछ गया होता पर वास्तव मे आप आज जो कुछ भी हो अपनी जीवन मे आई कठिनाई और परेशानी के कारण ही हो , क्यूकी संघर्ष के बिना मानव का विकास संभव ही नही है,इसीलिए पानी जीवन मे आनेवाली परेशानी से मत डरो बल्कि डॅट के उनका संका करो तुम अपने अंदर एक अलग प्रकार का आत्मविश्वास महसूस करोगे,
ये ज़िंदगी का महत्वपूर्ण पाठ सीखाकर जेबी दादा ने बच्चो को खेलने के लिए विदा किया
तो फिर दोस्त कैसी लगी आपको ये प्रेरणादायक कहानी संघर्ष – Motivational Story in Hindi और एसी मोटिवेशनल प्रेरणादायक कहानी (संघर्ष – Motivational Story in Hindi) के पाने के लिए इस वेबसाइट को सबस्क्राइब करे , ताकि आपको जब भी नयी कहानी आए आपको ई-मैल द्वारा जानकारी मिल सके.इससंघर्ष – Motivational Story in Hindi को पढ़ने के लिए आपका बहोत बहोत शुक्रिया

No comments:

Post a Comment